Head Office: Delhi/NCR | Other Branches: Lucknow

सोरायसिस में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं (What To Eat And What Not To Eat In Psoriasis)

सोरायसिस में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

सोरायसिस एक सामान्य त्वचा की बीमारी हैं इस में आपके त्वचा पर पपड़ीदार लाल दाने होते हैं जिनमें खुजली होती है और कभी-कभी दर्द भी होता है। इस बीमारी का कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) की समस्या से संबंधित है।

सोरायसिस एक त्वाचा संबंध रोग है जो शरीर की चमक पर लाल, सुखद दाने पैदा करता है। क्या स्थिति में व्यक्ति को अपने आहार में विशेष से ध्यान देना चाहिए। सोरायसिस में क्या नहीं खाना चाहिए, ये जनाना महत्वपूर्ण है ताकी रोग के लक्षणों को कम किया जा सके और त्वचा की स्थिति को सुधारने में सहायता मिल सके।

सोरायसिस से पीड़ित व्यक्ति में पीड़ित का टी-कोशिकाएं (T-cells) गलती से त्वचा के स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती हैं, जिससे नई कोशिका का विकास शुरू हो जाता है, जब इसकी आवश्यकता नहीं होती है। परिणामस्वरूप, वे नई कोशिकाएँ त्वचा की सतह पर जमा हो जाती हैं, जिससे सोरायसिस होता है।

सोरायसिस का इलाज करना काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है, क्योंकि आप कभी नहीं जानते कि यह कब और कितनी बुरी तरह से वापस से शुरू हो जाएगा। कायाकल्प ग्लोबल में हम आयुर्वेदिक और एलोपैथी उपचार के संयोजन से सोरायसिस का इलाज करते हैं। यहां कायाकल्प ग्लोबल में हमने विभिन्न व्यक्तियों का सफलतापूर्वक इलाज किया है। यदि आप या आपका कोई प्रियजन इस समस्या से पीड़ित है तो तुरंत हमारा विशेषज्ञ से संपर्क करें।

आपके द्वारा खाया जाने वाला भोजन भी सोरायसिस को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है, इसलिए डॉक्टर से अपने खान-पान की आदतों के बारे में पूछना आवश्यक है। एक प्रमाणित विशेषज्ञ आपको एक आहार योजना बनाने में मदद करेगा जो वास्तव में आपके लिए उपयुक्त होगी। हालाँकि यहां हम उन खाद्य पदार्थों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए और जिनसे आपको बचना चाहिए

कुछ खाद्य पदार्थों की सूची जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए 

अब आप इस बात पर ध्यान दें कि सोरायसिस को नियंत्रित करने के लिए आप क्या खा सकते हैं और आपको क्या खाना चाहिए। हालांकि हमने नीचे कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थों को सूचीबद्ध किया है, लेकिन सामान्य तौर पर, आपका सबसे अच्छा विकल्प एक सूजनरोधी आहार (anti-inflammatory diet) का पालन करना है।

  1. फल और सब्जियां (Fruits and Vegetables)

जब हम सूजन-रोधी (anti-inflammatory) खाने की बात करते हैं तो एंटीऑक्सिडेंट को आपके आहार में शामिल करना काफी महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि एंटीऑक्सिडेंट आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों के प्रभाव से बचाता हैं और सूजन का कारण बनने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता हैं।

फलों और सब्जियों में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है अतः आपको अपने नियमित आहार में फलों और सब्जियों को जरूर शामिल करना चाहिए। इनमें एंटीऑक्सीडेंट के उच्च मात्रा के साथ साथ फाइबर और जटिल कार्बोहाइड्रेट (complex carbohydrates) भी पाए जाते हैं। नीचे हमने कुछ फलों और सब्जियों के नाम को सूचीबद्ध किया है जो हैं:-

  • जामुन और अंगूर (Berries and grapes)– इसमें एंथोसायनिन (anthocyanins) नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो सूजन को कम करते हैं। अंगूर में रेस्वेराट्रॉल नामक यौगिक भी होता है, जो सूजन को कम कर सकता है।
  • पत्तेदार सब्जियां– क्रूसिफेरस सब्जियाँ (Cruciferous vegetables), जैसे ब्रोकोली, फूलगोभी और केल। ब्रोकोली, विशेष रूप से, सल्फोराफेन से भरपूर होती है, जो की एंटीऑक्सीडेंट है जो परिणामसरूप सोरायसिस को नियंत्रित है।
  • तीखी चेरी (Tart cherries)-इसमें एंटी-ऑक्सीडेटिव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं (और सिस्टोलिक रक्तचाप और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को भी कम कर सकते हैं)।
  1. हल्दी (Turmeric)

इसमें तीखा, मिट्टी जैसा स्वाद होता है जिसे ज्यादातर लोग या तो पसंद करते हैं या नफरत करते हैं। हल्दी में करक्यूमिन (curcumin) नामक एक पॉलीफेनोल (polyphenol) होता है, जिसमें शक्तिशाली सूजन-रोधी गुण (anti-inflammatory property) होता हैं।

अतः विशेषज्ञ आपको आहार में हल्दी की मात्रा बढ़ाने की सलाह देते है, आप सुबह के नास्ते में अंडे में हल्दी मिला कर उसका सेवन कर सकते है, आप ह्यूमस (hummus), चाय में, इसे स्मूथी में भुनी हुई सब्जियों पर छिड़ कर हल्दी का सेवन कर सकते है। और यदि आपको वास्तव में हल्दी का स्वाद पसंद नहीं है तो आप करक्यूमिन अनुपूरक (curcumin supplement) का उपयोग कर सकते हैं।

  1. वसायुक्त मछली (Fatty Fish)

सैल्मन, टूना, कॉड और सार्डिन जैसी मछलियों में ओमेगा-3 अधिक होती जो सोरायसिस से पीड़ित व्यक्ति के लिए फायदेमंद हो सकता है। ओमेगा-3एस में सूजन-रोधी गुण (anti-inflammatory properties) होते हैं जो सोरायसिस को नियंत्रित रखने में मदद कर सकता हैं। प्रति सप्ताह 2 दिन मछली को अपने आहार में शामिल करने का लक्ष्य रखें  इस से आपके शरीर को उचित ओमेगा-3 मात्रा प्राप्त करने में मदद मिलेगा को परिणामस्वरूप आप सोरायसिस को नियंत्रित कर सके।

ध्यान देने योग बाते- पूरे शरीर में सोरायसिस के कारण होने वाले सूजन को कम करने के लिए संतुलित और सेहतमंद आहार का सेवन करना सबसे अच्छा तरीका है। ऊपर सूचीबद्ध किये गए आहार के सेवन से सोरायसिस की तीव्रता और गंभीरता को नियंत्रित किया जा सकता है। अगर आप सोरायसिस से परेशान है तो आज ही कायाकल्प ग्लोबल के विशेषज्ञ से  संपर्क करें।

Psoriasis treatment with Kayakalp Global

doctor-patient

Free Consultation

salary

Most Affordable Treatment

customer

1,00,000 + Happy Patients

FSSAI
FSSAI
Approved
stay-at-home

Treatment at Home

medical-team

25 + years of doctors experience

Psoriasis treatment with Kayakalp Global

doctor-patient

Free Consultation

salary

Most Affordable Treatment

customer

1,00,000 + Happy Patients

FSSAI

FSSAI Approved

stay-at-home

Treatment at Home

medical-team

25 + years of doctors experience

| Related: सोरायसिस के उपचार में कोलोजन थेरेपी का क्या महत्व है |

कुछ खाद्य पदार्थ जिनके सेवन से आपको बचना चाहिए 

सबसे पहले, प्रसंस्कृत चीनी को परहेज करना आवश्यक है. चीनी से भरे हुए भोजन और पेय पदार्थ, जैसी की मिठाई और मीठा पानी, रक्त शर्करा के सितारों में वृद्धि कर सकते हैं, जिसके शरीर में सुजन बढ़ने का खतरा होता है। संस्कृत चीनी का सेवन कम करके, सोरायसिस के रोगी अपने रक्त शर्करा का संतुलित स्थिति को बना सकते हैं।

दूध उत्पादन को भी समझना जरूरी है, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो दूध के प्रति असहिष्णुता या सहायता से गुजर रहे हैं। दूध के सेवन से पचन शक्ति में कथाइनी और काब्ज की समस्या हो सकती है, जो सोरायसिस के लक्षणों को बढ़ा सकती है। बदले में, बादाम दूध या नारियल के दही जैसे अनुकूल उत्पादन का सेवन किया जा सकता है।

सामान्य तौर पर, नेशनल सोरायसिस फाउंडेशन (एनपीएफ) फलों और सब्जियों, लीन प्रोटीन, साबुत अनाज और स्वस्थ वसा से भरपूर एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार खाने की सलाह देता है। इसके अलावा विशेषज्ञ यह सलाह देते है की सूजन को बढ़ावा देने वाले खाद्य पदार्थों को सीमित करना आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए अच्छा है और आपके सोरायसिस लक्षणों को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकता है

नीचे हमने कुछ खाद्य पदार्थ को सूचीबद्ध किया है जिससे सोरायसिस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को परहेज करना चाहिए:-

  1. शराब (Alcohol)

विशेषज्ञों मानना हैं की सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण चीज़ यह है की सोरायसिस के लक्षण को महसूस कर रहे व्यक्ति को शराब सेवन तुरंत बंद करने की जरुरत है। इसका कारण यह है की शराब त्वचा में रक्त वाहिकाओं को खोल देती है जिस से आपकी रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं, तो सफेद रक्त कोशिकाएं, जिनमें टी कोशिकाएं भी शामिल हैं, जिन्हें सोरायसिस के लिए जिम्मेदार माना जाता है, आपकी त्वचा की बाहरी परतों में अधिक आसानी से प्रवेश कर सकती हैं जो की स्थिति को और ख़राब कर सकता है।

  1. खट्टे फल (citrus fruits)

कभी-कभी एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण सोरायसिस के लक्षण और ज्यादा ख़राब हो सकता है। खट्टे फल, जैसे अंगूर, संतरे, नींबू और नीबू, एक आम एलर्जी कारक हैं। यदि आप अनुभव करते हैं कि खट्टे फल आपके लक्षणों को ट्रिगर कर रहा हैं, तो देखें कि क्या उन्हें अपने आहार से हटाने से आपकी त्वचा में सुधार होता है या नहीं।

  1. ग्लूटेन (gluten)

यह प्रोटीन राई, गेहूं और जौ सहित कुछ घास से संबंधित अनाजों में पाया जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार, सोरायसिस से पीड़ित कुछ लोग ग्लूटेन के प्रति भी संवेदनशील हो सकते हैं, और इसलिए उन लोगों के लिए ग्लूटेन से परहेज करने से उनके सोरायसिस के लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है। लेकिन ग्लूटेन और सोरायसिस का लक्षणों के बीच सीधा संबंध दिखाने वाला कोई निश्चित सबूत नहीं है। यदि आपको संदेह है कि ग्लूटेन आपके सोरायसिस लक्षणों का कारण है, तो अपने डॉक्टर के साथ परामर्श करें।

ग्लूटेन युक्त अनाज, जैसे कि गेहूँ, जौ और राय, को भी सोरायसिस में खाना नहीं चाहिए। ग्लूटेन, कुछ रोगियों के लिए सुझाव दिया गया है, जो महसुस कर सकता है कि ये त्वाचा में सुजान को बढ़ाने का कारण हो सकता है। सोरायसिस के रोगियो के लिए क्विनोआ, भूरा चावल या ग्लूटेन रहित दलिया जैसे विकल्प का सेवन अधिक उपयोगी हो सकता है। रात्रि के भोजन का भी ध्यान रखना चाहिए। इसमे नमक, मिर्च और तेल का अधिक सेवन से रोगी को परेशानी हो सकती है। अगर आप ये जान ना चाहते हैं कि सोरायसिस में क्या खाना चाहिए तो याद रखें कि भोजन में तली हुई या संस्कृत खादय पदार्थों को काम करके, सोरायसिस के रोगी अपने आहार में सुधार कर सकते हैं।

ऊपर हमने कुछ सामान्य खाद्य पदार्थों को सूचीबद्ध किया है जो व्यक्ति में सोरायसिस के लक्षण को ट्रिगर करने के लिए जाने जाते हैं। इसलिए आपको आज ही अपने डॉक्टर से बात करके इन खाद्य पदार्थों को तुरंत ही नियंत्रित करने की जरुरत है। 

निष्कर्ष (Conclusion)

अब जबकि आप उन खाद्य पदार्थों की सूची जान गए हैं जो सोरायसिस के लक्षणों को कम या बढ़ा सकते है तो अब आप अपने आहार की योजना महत्वपूर्ण तरीके से बना सकते है। अगर आपको अभी भी सोरायसिस के लक्षणों से छुटकारा नहीं मिल पा रहा है तो अभी कायाकल्प ग्लोबल के विशेषज्ञ से संपर्क करें। कायाकल्प ग्लोबल सोरायसिस के लक्षणों को आयुर्वेदिक और एलोपेथिक के संयोजन से नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है।

सब उपायों को ध्यान में रखते हुए, सोरायसिस के रोगी अपने भोजन में परहेज करके अपनी स्थिति को सुधार सकते हैं। संपूर्ण, पोषक तत्त्वों से भरपुर आहार का सेवन करके, स्थिति को सुधारने और व्यक्ति की सामान्य स्थिति को सुधारने का मार्ग प्रशस्त होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (frequently Asked question)

  1. अगर मुझे सोरायसिस है तो क्या मैं चावल खा सकता हूँ? 

उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले कार्बोहाइड्रेट उत्पाद जैसे की परिष्कृत चीनी, मिठाई, शहद, मीठे पेय, कुछ फल, सफेद ब्रेड, सादा पास्ता, सफेद चावल, और आलू को सोरायसिस के रोगियों के आहार में प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।

  1. त्वचा के सोरायसिस के लिए कौन सा फल सबसे अच्छा है? (Which fruit is best for psoriasis of the skin?)

फल और सब्जियाँ, विशेष रूप से जामुन, चेरी, और पत्तेदार सब्जियाँ आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आप अपने आहार में सैल्मन, सार्डिन और ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर मछलियाँ को भी शामिल कर सकते है। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर जड़ी-बूटियाँ और मसाले जैसे थाइम, सेज, जीरा और अदरक को भी त्वचा के सोरायसिस के लक्षण को कम करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।

  1. क्या सोरायसिस में पनीर का सेवन कर सकते है? (Can we eat paneer in psoriasis?)

यीस्ट को सोरायसिस के लक्षणों को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। चूंकि सोरायसिस एक सूजन वाली बीमारी है, इसलिए ऐसा आहार जिसमें सूजन रोधी गुण (anti-inflammatory property) हों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए ऐसा करने से आपको सोरायसिस के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकता है। इसका मतलब है कम वसा वाला आहार, और पूर्ण वसा वाले दूध जैसे पनीर  को अपने आहार में शामिल करने से बचना चाहिए।

Related Posts

Scalp Psoriasis vs Dandruff - Know Major Differences and Facts
February 5, 2024

Have you been observing dandruff in your hair? Do you want to know whether it is psoriasis or dandruff? If someone notices white flakes on their hair and around the scalp, many people have asked this question. It is also unpleasant to live with the condition, so what shall be done about it? This article on psoriasis scalp vs dandruff will help you understand the difference and know what exactly is your problem. However, treatment can only be done after you have learned what it is that needs to be treated. Dandruff and scalp psoriasis are two very different conditions. One is a rather insignificant problem and the other may be one of more grave skin disorders.  Kayakalp Global’s Doctors have huge experience in the treatment of patients with this persistent scalp problem by balancing traditional therapies. It is crucial to know the difference between scalp psoriasis vs. Dandruff is an essential component in the decision-making process and maintaining a healthy state. This article will describe these two conditions in detail and touch upon which approach is proper for each of them. Understanding  the term: Scalp Psoriasis Scalp Psoriasis is a common disorder of the skin, which is considered when patches that are either reddish or salmon in color and covered with white scales. For these individuals, the patches might turn purple and scales might be seen in different shades of gray. A single lesion or multiple patches spreading over the entire scalp may occur, and sometimes it can extend to foreheads, …

विटिलिगो (Vitiligo) के लिए आयुर्वेदिक उपचार / Kayakalp Global
December 20, 2023

विटिलिगो (Vitiligo) एक त्वचा विकार है जिसमें शरीर के विभिन्न हिस्सों पर सफेद धब्बे दिखाई देते हैं, जो त्वचा रंजकता (Skin Pigmentation) के लिए जिम्मेदार कोशिकाओं मेलानोसाइट्स (Melanocytes) के नुकसान के परिणामस्वरूप होता है। आधुनिक चिकित्सा में विटिलिगो के कारण काफी हद तक अज्ञात हैं, जिनमें आनुवांशिक प्रवृत्ति (genetic predisposition) और ऑटोइम्यून समस्या (autoimmune issues) आदि कारक शामिल हैं

सोरायसिस के इलाज / Kayakalp Global
December 20, 2023

क्या आप सोरायसिस से राहत के लिए इतने सारे उपचारों का उपयोग करने से थक चुके हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ? तो फिर आप अकेले नहीं हैं. सोरायसिस से पीड़ित कई लोग अपनी सोरायसिस स्थितियों के इलाज के लिए एक स्थायी तरीका ढूंढ रहे हैं। आप पहले से ही जानते हैं कि ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों बाजार इस बीमारी को फैलने से रोकने वाले बहुत सारे उत्पादों से भरे हुए हैं। उनमें से अधिकांश मानक के अनुरूप नहीं हैं

सफेद दाग का इलाज / Kayakalp Global
December 20, 2023

जब सफेद दाग के इलाज के लिए प्राकृतिक उपचारों की बात की जाती है, तो योग सबसे प्रभावी विकल्पों में से एक है

विटिलिगो डाइट / Kayakalp Global
December 20, 2023

विटिलिगो एक ऑटोइम्यून समस्या है जो लंबे समय तक रहती है तथा त्वचा के पैच का रंगद्रव्य या रंग खोने का कारण होती है। ऐसा तब होता है जब रंगद्रव्य बनाने वाली त्वचा कोशिकाएं जिन्हें मेलानोसाइट्स कहा जाता है, उन्हें नष्ट कर दिया जाता है। इससे त्वचा का रंग दूधिया सफेद हो जाता है।

Comments

  1. Deepali Dhumal

    Reply
    September 9, 2023

    How to order oil

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Continue with WhatsApp

x
+91
Consult Now Get a Call Back

Continue with Phone

x
+91