Head Office: Delhi/NCR | Other Branches: Lucknow

सोरायसिस में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं (What To Eat And What Not To Eat In Psoriasis)

सोरायसिस में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

सोरायसिस एक सामान्य त्वचा की बीमारी हैं इस में आपके त्वचा पर पपड़ीदार लाल दाने होते हैं जिनमें खुजली होती है और कभी-कभी दर्द भी होता है। इस बीमारी का कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) की समस्या से संबंधित है।

सोरायसिस एक त्वाचा संबंध रोग है जो शरीर की चमक पर लाल, सुखद दाने पैदा करता है। क्या स्थिति में व्यक्ति को अपने आहार में विशेष से ध्यान देना चाहिए। सोरायसिस में क्या नहीं खाना चाहिए, ये जनाना महत्वपूर्ण है ताकी रोग के लक्षणों को कम किया जा सके और त्वचा की स्थिति को सुधारने में सहायता मिल सके।

सोरायसिस से पीड़ित व्यक्ति में पीड़ित का टी-कोशिकाएं (T-cells) गलती से त्वचा के स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती हैं, जिससे नई कोशिका का विकास शुरू हो जाता है, जब इसकी आवश्यकता नहीं होती है। परिणामस्वरूप, वे नई कोशिकाएँ त्वचा की सतह पर जमा हो जाती हैं, जिससे सोरायसिस होता है।

सोरायसिस का इलाज करना काफी चुनौतीपूर्ण हो सकता है, क्योंकि आप कभी नहीं जानते कि यह कब और कितनी बुरी तरह से वापस से शुरू हो जाएगा। कायाकल्प ग्लोबल में हम आयुर्वेदिक और एलोपैथी उपचार के संयोजन से सोरायसिस का इलाज करते हैं। यहां कायाकल्प ग्लोबल में हमने विभिन्न व्यक्तियों का सफलतापूर्वक इलाज किया है। यदि आप या आपका कोई प्रियजन इस समस्या से पीड़ित है तो तुरंत हमारा विशेषज्ञ से संपर्क करें।

आपके द्वारा खाया जाने वाला भोजन भी सोरायसिस को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है, इसलिए डॉक्टर से अपने खान-पान की आदतों के बारे में पूछना आवश्यक है। एक प्रमाणित विशेषज्ञ आपको एक आहार योजना बनाने में मदद करेगा जो वास्तव में आपके लिए उपयुक्त होगी। हालाँकि यहां हम उन खाद्य पदार्थों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए और जिनसे आपको बचना चाहिए

[lwptoc title=”Table of Content” hideItems=”1″]

कुछ खाद्य पदार्थों की सूची जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करना चाहिए 

अब आप इस बात पर ध्यान दें कि सोरायसिस को नियंत्रित करने के लिए आप क्या खा सकते हैं और आपको क्या खाना चाहिए। हालांकि हमने नीचे कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थों को सूचीबद्ध किया है, लेकिन सामान्य तौर पर, आपका सबसे अच्छा विकल्प एक सूजनरोधी आहार (anti-inflammatory diet) का पालन करना है।

  1. फल और सब्जियां (Fruits and Vegetables)

जब हम सूजन-रोधी (anti-inflammatory) खाने की बात करते हैं तो एंटीऑक्सिडेंट को आपके आहार में शामिल करना काफी महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि एंटीऑक्सिडेंट आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों के प्रभाव से बचाता हैं और सूजन का कारण बनने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता हैं।

फलों और सब्जियों में उच्च मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है अतः आपको अपने नियमित आहार में फलों और सब्जियों को जरूर शामिल करना चाहिए। इनमें एंटीऑक्सीडेंट के उच्च मात्रा के साथ साथ फाइबर और जटिल कार्बोहाइड्रेट (complex carbohydrates) भी पाए जाते हैं। नीचे हमने कुछ फलों और सब्जियों के नाम को सूचीबद्ध किया है जो हैं:-

  • जामुन और अंगूर (Berries and grapes)– इसमें एंथोसायनिन (anthocyanins) नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो सूजन को कम करते हैं। अंगूर में रेस्वेराट्रॉल नामक यौगिक भी होता है, जो सूजन को कम कर सकता है।
  • पत्तेदार सब्जियां– क्रूसिफेरस सब्जियाँ (Cruciferous vegetables), जैसे ब्रोकोली, फूलगोभी और केल। ब्रोकोली, विशेष रूप से, सल्फोराफेन से भरपूर होती है, जो की एंटीऑक्सीडेंट है जो परिणामसरूप सोरायसिस को नियंत्रित है।
  • तीखी चेरी (Tart cherries)-इसमें एंटी-ऑक्सीडेटिव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं (और सिस्टोलिक रक्तचाप और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को भी कम कर सकते हैं)।
  1. हल्दी (Turmeric)

इसमें तीखा, मिट्टी जैसा स्वाद होता है जिसे ज्यादातर लोग या तो पसंद करते हैं या नफरत करते हैं। हल्दी में करक्यूमिन (curcumin) नामक एक पॉलीफेनोल (polyphenol) होता है, जिसमें शक्तिशाली सूजन-रोधी गुण (anti-inflammatory property) होता हैं।

अतः विशेषज्ञ आपको आहार में हल्दी की मात्रा बढ़ाने की सलाह देते है, आप सुबह के नास्ते में अंडे में हल्दी मिला कर उसका सेवन कर सकते है, आप ह्यूमस (hummus), चाय में, इसे स्मूथी में भुनी हुई सब्जियों पर छिड़ कर हल्दी का सेवन कर सकते है। और यदि आपको वास्तव में हल्दी का स्वाद पसंद नहीं है तो आप करक्यूमिन अनुपूरक (curcumin supplement) का उपयोग कर सकते हैं।

  1. वसायुक्त मछली (Fatty Fish)

सैल्मन, टूना, कॉड और सार्डिन जैसी मछलियों में ओमेगा-3 अधिक होती जो सोरायसिस से पीड़ित व्यक्ति के लिए फायदेमंद हो सकता है। ओमेगा-3एस में सूजन-रोधी गुण (anti-inflammatory properties) होते हैं जो सोरायसिस को नियंत्रित रखने में मदद कर सकता हैं। प्रति सप्ताह 2 दिन मछली को अपने आहार में शामिल करने का लक्ष्य रखें  इस से आपके शरीर को उचित ओमेगा-3 मात्रा प्राप्त करने में मदद मिलेगा को परिणामस्वरूप आप सोरायसिस को नियंत्रित कर सके।

ध्यान देने योग बाते- पूरे शरीर में सोरायसिस के कारण होने वाले सूजन को कम करने के लिए संतुलित और सेहतमंद आहार का सेवन करना सबसे अच्छा तरीका है। ऊपर सूचीबद्ध किये गए आहार के सेवन से सोरायसिस की तीव्रता और गंभीरता को नियंत्रित किया जा सकता है। अगर आप सोरायसिस से परेशान है तो आज ही कायाकल्प ग्लोबल के विशेषज्ञ से  संपर्क करें।

Psoriasis treatment with Kayakalp Global

doctor-patient

Free Consultation

salary

Most Affordable Treatment

customer

1,00,000 + Happy Patients

FSSAI
FSSAI
Approved
stay-at-home

Treatment at Home

medical-team

25 + years of doctors experience

Psoriasis treatment with Kayakalp Global

doctor-patient

Free Consultation

salary

Most Affordable Treatment

customer

1,00,000 + Happy Patients

FSSAI

FSSAI Approved

stay-at-home

Treatment at Home

medical-team

25 + years of doctors experience

| Related: सोरायसिस के उपचार में कोलोजन थेरेपी का क्या महत्व है |

कुछ खाद्य पदार्थ जिनके सेवन से आपको बचना चाहिए 

सबसे पहले, प्रसंस्कृत चीनी को परहेज करना आवश्यक है. चीनी से भरे हुए भोजन और पेय पदार्थ, जैसी की मिठाई और मीठा पानी, रक्त शर्करा के सितारों में वृद्धि कर सकते हैं, जिसके शरीर में सुजन बढ़ने का खतरा होता है। संस्कृत चीनी का सेवन कम करके, सोरायसिस के रोगी अपने रक्त शर्करा का संतुलित स्थिति को बना सकते हैं।

दूध उत्पादन को भी समझना जरूरी है, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो दूध के प्रति असहिष्णुता या सहायता से गुजर रहे हैं। दूध के सेवन से पचन शक्ति में कथाइनी और काब्ज की समस्या हो सकती है, जो सोरायसिस के लक्षणों को बढ़ा सकती है। बदले में, बादाम दूध या नारियल के दही जैसे अनुकूल उत्पादन का सेवन किया जा सकता है।

सामान्य तौर पर, नेशनल सोरायसिस फाउंडेशन (एनपीएफ) फलों और सब्जियों, लीन प्रोटीन, साबुत अनाज और स्वस्थ वसा से भरपूर एंटी-इंफ्लेमेटरी आहार खाने की सलाह देता है। इसके अलावा विशेषज्ञ यह सलाह देते है की सूजन को बढ़ावा देने वाले खाद्य पदार्थों को सीमित करना आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए अच्छा है और आपके सोरायसिस लक्षणों को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकता है

नीचे हमने कुछ खाद्य पदार्थ को सूचीबद्ध किया है जिससे सोरायसिस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को परहेज करना चाहिए:-

  1. शराब (Alcohol)

विशेषज्ञों मानना हैं की सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण चीज़ यह है की सोरायसिस के लक्षण को महसूस कर रहे व्यक्ति को शराब सेवन तुरंत बंद करने की जरुरत है। इसका कारण यह है की शराब त्वचा में रक्त वाहिकाओं को खोल देती है जिस से आपकी रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं, तो सफेद रक्त कोशिकाएं, जिनमें टी कोशिकाएं भी शामिल हैं, जिन्हें सोरायसिस के लिए जिम्मेदार माना जाता है, आपकी त्वचा की बाहरी परतों में अधिक आसानी से प्रवेश कर सकती हैं जो की स्थिति को और ख़राब कर सकता है।

  1. खट्टे फल (citrus fruits)

कभी-कभी एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण सोरायसिस के लक्षण और ज्यादा ख़राब हो सकता है। खट्टे फल, जैसे अंगूर, संतरे, नींबू और नीबू, एक आम एलर्जी कारक हैं। यदि आप अनुभव करते हैं कि खट्टे फल आपके लक्षणों को ट्रिगर कर रहा हैं, तो देखें कि क्या उन्हें अपने आहार से हटाने से आपकी त्वचा में सुधार होता है या नहीं।

  1. ग्लूटेन (gluten)

यह प्रोटीन राई, गेहूं और जौ सहित कुछ घास से संबंधित अनाजों में पाया जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार, सोरायसिस से पीड़ित कुछ लोग ग्लूटेन के प्रति भी संवेदनशील हो सकते हैं, और इसलिए उन लोगों के लिए ग्लूटेन से परहेज करने से उनके सोरायसिस के लक्षणों में सुधार करने में मदद मिल सकती है। लेकिन ग्लूटेन और सोरायसिस का लक्षणों के बीच सीधा संबंध दिखाने वाला कोई निश्चित सबूत नहीं है। यदि आपको संदेह है कि ग्लूटेन आपके सोरायसिस लक्षणों का कारण है, तो अपने डॉक्टर के साथ परामर्श करें।

ग्लूटेन युक्त अनाज, जैसे कि गेहूँ, जौ और राय, को भी सोरायसिस में खाना नहीं चाहिए। ग्लूटेन, कुछ रोगियों के लिए सुझाव दिया गया है, जो महसुस कर सकता है कि ये त्वाचा में सुजान को बढ़ाने का कारण हो सकता है। सोरायसिस के रोगियो के लिए क्विनोआ, भूरा चावल या ग्लूटेन रहित दलिया जैसे विकल्प का सेवन अधिक उपयोगी हो सकता है। रात्रि के भोजन का भी ध्यान रखना चाहिए। इसमे नमक, मिर्च और तेल का अधिक सेवन से रोगी को परेशानी हो सकती है। अगर आप ये जान ना चाहते हैं कि सोरायसिस में क्या खाना चाहिए तो याद रखें कि भोजन में तली हुई या संस्कृत खादय पदार्थों को काम करके, सोरायसिस के रोगी अपने आहार में सुधार कर सकते हैं।

ऊपर हमने कुछ सामान्य खाद्य पदार्थों को सूचीबद्ध किया है जो व्यक्ति में सोरायसिस के लक्षण को ट्रिगर करने के लिए जाने जाते हैं। इसलिए आपको आज ही अपने डॉक्टर से बात करके इन खाद्य पदार्थों को तुरंत ही नियंत्रित करने की जरुरत है। 

निष्कर्ष (Conclusion)

अब जबकि आप उन खाद्य पदार्थों की सूची जान गए हैं जो सोरायसिस के लक्षणों को कम या बढ़ा सकते है तो अब आप अपने आहार की योजना महत्वपूर्ण तरीके से बना सकते है। अगर आपको अभी भी सोरायसिस के लक्षणों से छुटकारा नहीं मिल पा रहा है तो अभी कायाकल्प ग्लोबल के विशेषज्ञ से संपर्क करें। कायाकल्प ग्लोबल सोरायसिस के लक्षणों को आयुर्वेदिक और एलोपेथिक के संयोजन से नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकता है।

सब उपायों को ध्यान में रखते हुए, सोरायसिस के रोगी अपने भोजन में परहेज करके अपनी स्थिति को सुधार सकते हैं। संपूर्ण, पोषक तत्त्वों से भरपुर आहार का सेवन करके, स्थिति को सुधारने और व्यक्ति की सामान्य स्थिति को सुधारने का मार्ग प्रशस्त होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (frequently Asked question)

  1. अगर मुझे सोरायसिस है तो क्या मैं चावल खा सकता हूँ? 

उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले कार्बोहाइड्रेट उत्पाद जैसे की परिष्कृत चीनी, मिठाई, शहद, मीठे पेय, कुछ फल, सफेद ब्रेड, सादा पास्ता, सफेद चावल, और आलू को सोरायसिस के रोगियों के आहार में प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।

  1. त्वचा के सोरायसिस के लिए कौन सा फल सबसे अच्छा है? (Which fruit is best for psoriasis of the skin?)

फल और सब्जियाँ, विशेष रूप से जामुन, चेरी, और पत्तेदार सब्जियाँ आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आप अपने आहार में सैल्मन, सार्डिन और ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर मछलियाँ को भी शामिल कर सकते है। एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर जड़ी-बूटियाँ और मसाले जैसे थाइम, सेज, जीरा और अदरक को भी त्वचा के सोरायसिस के लक्षण को कम करने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।

  1. क्या सोरायसिस में पनीर का सेवन कर सकते है? (Can we eat paneer in psoriasis?)

यीस्ट को सोरायसिस के लक्षणों को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। चूंकि सोरायसिस एक सूजन वाली बीमारी है, इसलिए ऐसा आहार जिसमें सूजन रोधी गुण (anti-inflammatory property) हों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए ऐसा करने से आपको सोरायसिस के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकता है। इसका मतलब है कम वसा वाला आहार, और पूर्ण वसा वाले दूध जैसे पनीर  को अपने आहार में शामिल करने से बचना चाहिए।

Related Posts

MythVsRealityaboutvitiligo | Kayakalp
July 16, 2024

क्या आप भी स्वादिष्ट समुद्री भोजन का आनंद लेना पसंद करते हैं लेकिन उसके बाद अपना पसंदीदा दूध का गिलास पीने के विचार से डरते हैं? यदि आप भी हममें से कई लोगों की तरह हैं, तो आपने सुना होगा कि मछली खाने के बाद दूध पीना सही नहीं होता है। 

Bacchokechehareparsafeddaag | Kayakalp
July 16, 2024

बच्चों में चेहरे पर सफेद दाग, त्वचा की सबसे आम समस्या है। यह एलर्जी और पोषण संबंधी कमियों सहित विभिन्न स्थितियों के कारण हो सकता है।

anemia-test-psoriatic-arthritis
July 12, 2024

Anemia tests—such as iron studies and complete blood counts (CBCs)—help physicians prevent or treat psoriatic arthritis by giving important information about the body's inflammatory condition. Regular healthcare evaluations should include anemia screening since it allows for the early identification of possible inflammatory diseases such as psoriatic arthritis, which in turn allows for faster psoriasis treatment in india and better results. The connection between psoriatic arthritis and anemia highlights an important feature of healthcare: the interdependence of diseases that don't seem to be linked to each other. Low red blood cell or haemoglobin levels are the hallmark of anemia, a condition that frequently acts as a signal for underlying medical conditions, including inflammatory diseases like psoriatic arthritis. Renowned for its all-inclusive healthcare solutions, Kayakalp Global stresses the inclusion of anemia screening in its diagnostic procedures to provide the best possible care for patients. Doctors can more effectively manage current patients or proactively identify those at risk of developing psoriatic arthritis by being thoroughly aware of anemia and its diagnostic indicators. Thus, the relevance of anaemia tests in the setting of psoriatic arthritis emphasises the value of a comprehensive healthcare strategy that takes into account the interdependence of different medical diseases.  Understanding Anemia A frequent ailment called anemia is defined by a lack of red blood cells or haemoglobin in the blood, which reduces the blood's ability to carry oxygen and causes weakness and exhaustion.  Many underlying reasons, such as inherited abnormalities like sickle cell anemia, chronic diseases like renal disease or …

5 Types of Psoriatic Arthritis Symptoms and Treatment
June 23, 2024

Psoriatic arthritis (PsA) is an autoimmune inflammatory disease that often casts a long shadow on those it affects. For millions worldwide, PsA presents a complex challenge, intertwining joint pain, stiffness, and inflammation with the characteristic skin lesions of psoriasis. With ongoing research and an integrated treatment approach, Kayakalp Global has treated thousands of patients struggling with the condition, offering them respite from the symptoms they are experiencing. Being aware of the condition, the symptoms, and treatment options empower patients to manage their condition and lead a more fulfilling life. If you are curious to learn more about psoriatic arthritis and its associated symptoms and treatment, we have curated this guide with all the relevant details. What are the Five Types of Psoriatic Arthritis? PsA manifests in various ways, and categorizing these variations helps with diagnosis and treatment planning. Here’s a breakdown of the different types of psoriatic arthritis: Asymmetric Psoriatic Arthritis Among one-third of the psoriatic arthritis patients, the asymmetric variant is usually the most commonly affecting variant. The complications in this kind of psoriatic arthritis are usually milder. One of the most standout giveaways of patients suffering from this type is joint inflammation and pain concentrated on one side of the body, typically in large joints like knees, hips, fingers, or toes. It could be paired with morning stiffness and additional lesions on the skin. Symmetric Psoriatic Arthritis This type, the most prevalent form, strikes about half of all PsA cases. Here, the inflammation affects matching pairs of joints …

Blood Tests For Vitiligo Normal Level, Procedure And Cost
June 22, 2024

Vitiligo is a chronic autoimmune disorder that contributes to the loss of pigmentation on the skin due to the destruction of the melanocytes. The condition, despite the lack of a proper trigger behind it, is believed to be caused by environmental, genetic, or other autoimmune disorders. Blood tests, though not the primary diagnostic tool, play a supporting role in vitiligo management. Quite a few different types of blood tests for vitiligo help identify potential complications, enabling patients to get a confirmed diagnosis and treatment plan. At Kayakalp Global, prescribing a series of blood tests to our patients with vitiligo symptoms is paramount to understanding their current physical health and aligning the treatment plan accordingly. Understanding Vitiligo and Autoimmunity Melanocytes, skin cells responsible for melanin production, are targeted by the immune system in vitiligo. This results in the characteristic white patches. When distinguishing vitiligo can be broken down into two major types: Non-segmental vitiligo The most common form, affecting both sides of the body symmetrically. Segmental vitiligo Less common, affecting only one area of the body. Vitiligo often co-occurs with other autoimmune conditions, such as: Thyroid disorders (Hashimoto's thyroiditis, Graves' disease) Alopecia areata (hair loss) Pernicious anemia (vitamin B12 deficiency) Psoriasis Lupus This explains why getting a comprehensive range of blood tests is vital for diagnosing vitiligo and ruling out any potential complications associated with the risks of autoimmunity. When are Blood Tests Used for Vitiligo? Blood tests for vitiligo are not routinely performed. Diagnosis is primarily based on a thorough …

Erythrocyte Sedimentation Rate Test
June 22, 2024

At the vanguard of dermatological treatment, Kayakalp Global is well-known across the world for its skill in managing and treating a wide range of skin problems, including psoriasis. Kayakalp Global underscores the need for routine testing to track the advancement of sickness and guarantee the best possible management approaches, having a deep awareness of the importance of prompt diagnosis and treatment. The Erythrocyte Sedimentation Rate (ESR) test is a vital diagnostic technique used by Kayakalp Global professionals in psoriatic arthritis (PsA). This test determines whether inflammation exists in the body by measuring how quickly red blood cells settle in a test tube over time. Increased inflammation is frequently correlated with elevated ESR readings, which can be used to guide treatment decisions and provide important information about the severity of PsA. Psoriatic arthritis, a chronic inflammatory disorder marked by joint swelling and skin symptoms, has to be managed completely to relieve symptoms and stop the disease's development. Kayakalp Global guarantees customised care that is suited to the patient's requirements by incorporating cutting-edge diagnostic methods like the ESR test into their treatment procedures. This eventually improves the patient's quality of life and overall well-being. How Psoriasis Arthritis Affects People Psoriatic arthritis (PsA) is a long-term autoimmune disease that can impact people in different ways, frequently causing stiffness, discomfort, and inflammation in the joints. Beyond its negative effects on the body, PsA can seriously interfere with day-to-day functioning by generating weariness, decreased mobility, and mental discomfort. PsA-related joint inflammation can vary greatly, affecting …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Continue with WhatsApp

x
+91
Consult Now Get a Call Back

Continue with Phone

x
+91